बकाया के बावजूद बिजली कनेक्शन देने के मामले की जांच शुरू

इति भ्रष्टाचार प्रतिनिधि, लोनी । भ्रष्टाचार में लिप्त ऊर्जा निगम के अधिकारियों पर नकेल कसती नजर भी आ रही है। ऐसे ही लोनी के मामले में पीवीवीएनएल के एमडी ने अधिशासी अभियंता जवाब तलब किया है।

लोनी के यूनुस सैफी ऊर्जा निगम के भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए नासूर बन गये हैं। जब अपनी पोल पट्टी खुलने लगी तो भ्रष्टाचार के आरोपियों ने पहले तो उनको भी रिश्वत का लालच दिया। लेकिन जब उनकी संबंधी शिकायतों पर पीवीवीएनएल के एमडी ने सख्त कार्रवाई की है। उन्होंने पीवीवीएनएल के विद्युत परीक्षण खण्ड-प्रथम के अधिशासी अभियंता राम बाबू को पत्रांक संख्या 345 के तहत बकाया होने के बावजूद नया कनेक्शन दिये जाने की जांच के संबंध में पूछा है। एमडी ने राम बाबू से पूछा है कि संबंधित प्रकरण में गोपनीय रूप से निष्पक्ष जांच करके जांचोपरांत अपनी जांच आख्या, दोषी पाये जाने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के विरूद्ध अनुशासनिक कार्यवाही किये जाने की संस्तुति सहित अधोहस्ताक्षरी को उपलब्ध करायें।

यह है पूरा मामला

लोनी के नाईपुरा बिजलघर पर संविदाकर्मी प्रवीण बोसला ने रिश्वत लेकर प्रेमनगर में एक फर्जी मीटर लगा दिया। जिसपर ढाई लाख रुपये का पुराना बकाया भी था। इसी के साथ 27 नवंबर 2021 को पुराने मीटर की पीडी 5 मिनट बाद ही 27 नवंबर 2021 को ही कर दी गई। यूनुस सैफी ने एमडी को पुराने मीटर संख्या-9732611 की शिकायत करते हुए आरोपियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई को कहा तो सारे भ्रष्ट एक होकर आरोपी को बचाने लगे।

bina notice bijli connection katne par adhikari sthanantarit

बिजली विभाग से संबंधित अन्य पोस्ट भी देखें :

उपभोगता जाग्रति और सरक्षण के लिए हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब जरुर करें |

Leave a Comment

CAPTCHA ImageChange Image