जांच में कमेटी ने पाया दोषी – फिर भी कार्रवाई नहीं की गई

Spread the love

जनवाणी संवाददाता, मेरठ | PVVNL  मुख्यालय से जांच रिपोर्ट उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लखनऊ को मेजे जाने के बाद भी अभी तक आरोपी एक्शियन के खिलाफ लखनऊ में बैठे अफसर विभागीय कार्रवाई के मूड में नजर नहीं आ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर इसे शर्मनाक घटना के गड़ित टीजी-टू प्रवीण कुमार का कहना है के वह एमडी पावर से एक बार फिर मेलकर शर्मसार करने वाली घटना के ग्मुख सूत्राधार आरोपी अफसर पर कार्रवाई का आग्रह करेंगे। उन्होंने बताया कि जब तक आरोपी अफसर पर कार्रवाई नहीं हो जाती ब तक चुप बैठने वाले नहीं।

मुंह काला करने के प्रकरण में सात माह से पीड़ित को इंसाफ का इंतजार

ये है पूरा मामला  बीते साल 29 मई को टीजी-टू प्रवीण व उनके एक अन्य सहयोगी को नोएडा के मुख्य अभियंता के कार्यालय में देर रात बुलाकर उनके मुंह पर कालिख पुतवा दी गयी। इस मामले को लेकर पीवीवीएनएल स्टाफ में जमकर बबाल हुआ था। मामले की गूंज केवल पीवीवीएनएल ही नहीं बल्कि लखनऊ तक सुनाई दी गयी थी। प्रदेश भर के तमाम डिस्कॉम में यह मामला गूंजा था तथा घोर निंदा की गयी थी।

जांच कमेटी की रिपोर्ट में दोषी

मामले की गंभीरता को देखते हुए एमडी पावर ने तीन सदस्यीय एक जांच कमेटी का गठन करा दिया था। पीड़ित प्रवीण कुमार का कहना है कि जांच कमेटी ने उक्त घटना को तथा पीड़ितों द्वारा लगाए गए आरोपों को सही पाया। इतना ही नहीं जांच कमेटी को साक्ष्य भी सौंपे गए थे। जिसके आधार पर जांच कमेटी ने उक्त शर्मसार करने वाली घटना को सत्य माना ।

जांच रिपोर्ट लखनऊ

उक्त जांच की आख्या डिस्कॉम द्वारा 21 सितंबर 2023 को पावर निगम मुख्यालय लखनऊ को भेजी जा चुकी है, परंतु 4 माह से अधिक का समय बीतने पर भी निगम मुख्यालय से अभी तक कोई भी कार्रवाई दोषी अधिकारी के विरुद्ध नहीं की गयी है, जबकि इस प्रकरण में एक दलित वर्ग के कर्मचारी पर मीटर बदलने के एवज में रिश्वत लेने का आरोप लगाते हुए नोएडा के मुख्य अभियंता द्वारा बीते साल 29 मई की रात्रि में लगभग 11 बजे अपने कार्यालय बुलाकर अमानवीय कृत्य यथा जातिसूचक शब्दों का प्रयोग कर अपमानित करने, जान से मारने की धमकी देने और चेहरे पर कालिख पुतवाने जैसा कार्य किया गया। इस जांच रिपोर्ट को लखनऊ भेजे करीब चार माह का समय हो चुका है, लेकिन अभी तक मुंह काला कराने के आरोपी मुख्य अभियंता व इस कांड में शामिल अन्य के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गयी है। इस मामले को सामाजिक संगठन इति भ्रष्टाचार के पंडित नरेश शर्मा ने भी पुरजोर तरीके से आवाज उठायी है। उन्होंने जानकारी कि पूरे प्रकरण की जानकारी उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम देवराज को भी भेजी गयी है। पूरी उम्मीद है कि शर्मसार करने वाली घटना को अंजाम दिलाने वाले अफसर पर कार्रवाई जरूर की जाएगी।

सीएम और ऊर्जा मंत्री से शिकायत

पीड़ित टीजी-टू प्रवीण ने बताया कि उन्होंने इस मामले की शिकायत सूबे के सीएम व ऊर्जा मंत्री को भी भेजी है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि सीएम योगी जरूर अन्याय करने वाले अफसर को सजा देंगे। पीड़ित का कहना है कि उनके ऊपर जो भी आरोप लगाए गए वो झूठे पाए गए हैं, लेकिन इसके बाद भी आरोपी अफसर के खिलाफ कार्रवाई में हो रही देरी से वह खिन्न हैं। उन्होंने आरोपी पर शीघ्र ही कार्रवाई कराए जाने की मांग की है।

janch comity ne paya doshi fir bhi koi karywahi nahi ki

बिजली विभाग से संबंधित अन्य पोस्ट भी देखें | Also see other posts related to Electricity Department :

उपभोगता जाग्रति और सरक्षण के लिए हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब जरुर करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA ImageChange Image