स्मार्ट मीटर से मिलने वाले झटकों के लिए रहें तैयार

जनवाणी संवाददाता, मेरठ | PVVNL के शहरी क्षेत्र के उपभोक्ता अगले माह से स्मार्ट मीटर के झटकों को तैयार रहें। एक अप्रैल से पूरे शहर में स्मार्ट मीटर लगाने का अभियान के लिए बिजली वालों ने कमर कस ली है। शहरी क्षेत्र में करीब साढ़े तीन लाख उपभोक्ता हैं, जिनके यहां पुराने मीटर हटाकर स्मार्ट मीटर लगाए जाने हैं। स्मार्ट मीटरों की खेप भी आ चुकी है। इंतजार बस इस बात का कीजिए कि आपकी बारी कब आती है ?

स्मार्ट की मीटरों को लेकर यदि बात की जाए तो इनको लेकर शिकातयों का अंबार है। सैकड़ों शिकायतें ऐसी हैं जिनका निस्तारण तक नहीं किया गया है। जिनके यहां स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके हैं, उनकी यदि मानें तो आरोप है कि जब स्मार्ट मीटर लगा है, बिल कई गुणा बढ़कर आने लगा है। इसको लेकर तमाम स्तर पर शिकायतें की जा चुकी हैं, लेकिन राहत का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। भुक्तभोगियों की मानें तो जिस पर कोई उपभोक्ता पहली बार स्मार्टकार्ड का यूज करता है और खरीदारी के बाद पहुंचने वाले भारी भरकम बिल को देखकर दिमाग घूम जाता है, ठीक उसी तर्ज पर बिजली वालों का स्मार्टमीटर का पहली बार यूज करने पर झटका लगनार तय है। स्मार्टकार्ड से खरीदारी के बाद जब बिल आता है तो बैंक या जिस वाले बिल की जांच कराने की बात कहते हैं, उसको ठीक करने की बात कहते हैं, लेकिन इस शर्त के साथ कि जो बिल आया है।

पहले उसको जमा कराइये, यदि कुछ गलत जुड़ा है तो उसको ठीक कर दिया जाएगा, लेकिन उसके लिए पहले जो बिल भेज दिया गया है, उसका जमा करना जरूरी है, क्योंकि यह नियम है। भुक्तभोगियों का कहना है कि ऐसा ही स्मार्टमीटर मामलों में बिजली वाले कहते हैं कि पहले जो बिल भेजा है उसको जमा कराओ, उसके बाद चेक मीटर लगाकर देखा जाएगा कि क्या वाकई स्मार्टमीटर में कुछ खामियां हैं। ये एक लंबी प्रक्रिया होगी, इसके बाद धीरे-धीरे स्मार्टकार्ड की तर्ज पर स्मार्टमीटर के उपभोक्ता भी अभ्यस्त बनाने लगते हैं। क्योंकि शिकायत और सुनवाई के नाम पर लगातार लगवाए जाने वाले चक्करों से परेशान होकर आखिरकर थक हारकर उपभोक्ता बिजली वालों के आगे घुटने टेक देता है।

  • अगले माह से 3.50 लाख उपभोक्ताओं के यहां लगेंगे स्मार्ट मीटर.
  • स्मार्ट मीटरों को लेकर अनाप-शनाप बिलों की आ चुकी हैं सैकड़ों शिकायत.

निजात की नहीं कोई उम्मीद

जिनके यहां स्मार्ट मीटर लग चुके है और बिल पहले से बढ़कर आने लगे हैं उनका कहना है कि स्मार्ट मीटर से निजात की कोई उम्मीद ना रखें। हां इतना जरूर हो सकता है कि स्मार्ट मीटर को घर की दीवार पर टंगने से कुछ दिनों के लिए तमाम बहाने बनाकर टाला जा सकता है, लेकिन स्मार्ट मीटर लगाने वाले कंपनी के स्टाफ पर जिस प्रकार से पीवीवीएनएल प्रशासन ने दबाव बनाया हुआ है, उसके चलते ज्यादा दिनों तक स्मार्ट मीटर से मुक्ति की उम्मीद करना बेमाने है।

जरूर लगेंगे स्मार्ट मीटर

शहरी क्षेत्र में करीब साढ़े तीन लाख उपभोक्ता हैं उन सभी के यहां अनिवार्य रूप से स्मार्ट मीटर लगेंगे। यदि कोई शिकायत है तो उसका निस्तारण होगा। धीरज सिन्हा,चीफ इंजीनियर |

smart meter se milne wale jhatkon k liye rahe taiyaar

बिजली विभाग से संबंधित अन्य पोस्ट भी देखें :

उपभोगता जाग्रति और सरक्षण के लिए हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब जरुर करें |

Leave a Comment

CAPTCHA ImageChange Image